भारतीय राज व्यवस्था.Indian political 2022

भारतीय राजनीतिक प्रणाली पुस्तक “भारतीय राजनीतिक प्रणाली” विषय के लिए संशोधित नए पाठ्यक्रम के साथ-साथ परीक्षा प्रश्न पत्र की संरचना को ध्यान में रखकर लिखी गई थी। विश्वविद्यालयों ने एक बार फिर महत्वपूर्ण पाठ्यक्रम संशोधन किए हैं। भारतीय राजनीति से संबंधित विभिन्न पदों और अंगों के गठन और संचालन की वर्तमान स्थिति को प्रस्तुत करते हुए, नया पाठ्यक्रम छात्रों में शासन और राजनीति के लिए एक विश्लेषणात्मक दृष्टिकोण पैदा करना चाहता है। पाठ्यक्रम स्वागत योग्य है, और इस विषय पर पूरी चर्चा के दौरान यह रुख अपनाया गया है।भारतीय राज व्यवस्था.Indian political

indian political system
indian political system

राष्ट्रवाद क्या है? what is nationalism?

जो लोग यह विश्वास रखते हैं कि उनका राष्ट्र अन्य सभी से श्रेष्ठ है, इसे राष्ट्रवाद के रूप में अभिव्यक्त करते हैं। समान जाति, भाषा, धर्म, संस्कृति या सामाजिक आदर्शों का समूह अक्सर इन श्रेष्ठता भावनाओं के आधार के रूप में कार्य करता है। राष्ट्रवाद की कई किस्में हैं, जिनमें शामिल हैं:

राष्ट्रवादी जातीयता
राष्ट्रवादी विस्तारवाद
रोमांटिक राष्ट्र
राष्ट्रवादी संस्कृति
भाषा में राष्ट्रवाद
ईसाई राष्ट्रवाद
उपनिवेशवाद के बाद राष्ट्रवाद
सामुदायिक राष्ट्रवाद
राष्ट्रीय उदारवाद
राष्ट्रवादी विचारधारा
क्रांति का राष्ट्रवाद
रूढ़िवादी राष्ट्रवाद
राष्ट्रीय उदारवाद
समाजवादी राष्ट्रवाद

भारत में राष्ट्रवाद की शुरुआत कैसे हुई?
भारत में राष्ट्रवाद की शुरुआत कैसे हुई?

भारत में राष्ट्रवाद की शुरुआत कैसे हुई? How did nationalism start in India?

भारत लंबे समय से अशांति का अनुभव कर रहा था। राष्ट्रवाद आदि काल से अस्तित्व में है। वेदों में “वरुण राष्ट्र को अचल करे, बृहस्पति राष्ट्र को स्थिर करे, इन्द्र राष्ट्र को चलाए और देवराष्ट्र निश्चित रूप से आगे बढ़े” का अर्थ कहाँ है? राष्ट्रवाद एकता की भावना को बढ़ावा देता है। भारत में राष्ट्रवाद का सर्वप्रथम उदय 19वीं शताब्दी में हुआ। ब्रिटिश साम्राज्य की नीतियों और कठिनाइयों ने भारत को एक राष्ट्र बनने का मार्ग प्रशस्त किया; उन्होंने राष्ट्र की आधारशिला रखी।भारतीय राज व्यवस्था.Indian political

भारतीय राज व्यवस्था.Indian political
भारतीय राज व्यवस्था.Indian political

Leave a Comment